Connect with us

Bihar k mati ke Lal

दुनिया को कैंसर से बचाने में जुटे बिहार के लाल को काशी वेद वेदांग विद्यापीठ ने बाबा नगरी काशी आने को दिया निमंत्रण

Published

on

639 Views

कहते हैं कि कठिन परिश्रम वह चाबी है, जो किस्मत का दरवाजा खोल देती है. सच्चे लगन, धैर्य और मेहनत के बल पर ही सफलता संभव है. हालांकि, इसके लिए जरूरी है कि हम पहले अपने लक्ष्यों का चयन करें और फिर लक्ष्यों को हासिल करने के लिए ईमानदारी से प्रयास करें.
यह बातें बिलकुल सटीक बैठती है राकेश पांडेय जी पर. जो लंदन में रहते हैं और कई देशों में इनके दफ्तर हैं. पर, सबसे रोचक बात यह कि ये पूर्ण रूप से बिहारी है. यह इतने व्यस्त जिंदगी के बावजूद अपने गांव और अपनी मिट्टी को भूलते नहीं है. लंदन में रहने वाले Bravo Pharma ग्रुप के सीएमडी राकेश की कंपनी कैंसर के इलाज के लिए दवाएं बनाती हैं.

किसी काम के सिलसिले में पटना आए राकेश पांडेय से काशी वेद वेदांग विद्यापीठ, वाराणसी के सदस्यगणों ने मुलाकात की. अपने मिट्टी से प्रेम करने वाले सरल स्वभाव के राकेश ने विद्यापीठ के लोगों से मिलकर इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने घंटों बातचीत की और अपने संघर्ष से लेकर सफलता तक की कहानी को परत—दर—परत बताया. जिसे विद्यापीठ के सदस्य और युवा फिल्म निर्देशक विकास जी ने बिहारी माटी से शेयर किया. वहीं विद्यापीठ के सदस्यों ने राकेश पांडेय को बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी यानी वाराणसी आने का आमंत्रण दिया.

विकास जी के अनुसार राकेश पांडेय का प्रारंभिक जीवन काफी संघर्षरत रहा. राकेश बताते है कि उनके पास गांव से 35 किलोमीटर दूर मोतिहारी आने को पैसे नहीं होते थे. वे बस की छत पर बैठकर मोतिहारी जाया करते थे. राकेश पांडेय का गांव मोतिहारी का सरोत्‍तर है. परंतु, आज राकेश पांडेय का दफ्तर लंदन के अलावा उज्‍बेकिस्‍तान, स्‍वीडन, यूगांडा, रवांडा, दुबई, अमेरिका और एस्‍टोनिया जैसे देशों में भी है. उन्‍होंने मोतिहारी से 1992–1993 में मैट्रिक पास किया. परंतु नंबर इतने नहीं थे कि पटना यूनिवर्सिटी के किसी कालेज में दाखिला हो जाता. तो उन्होंने आरपीएस कालेज, नया टोला में एडमिशन लिया. छात्र जीवन के बारे में राकेश बताते हैं कि लॉज में रहने वाले सायंस कॉलेज के छात्रों से दोस्ती की. उनके साथ जाकर सायंस कॉलेज में पढ़ते थे.

आर्थिक रूप से गरीब राकेश के पास पटना में रहने को भी पैसे नहीं थे तो वह लॉज में अखबार देने वाले हॉकर से मुनाफे में आधा—आधा पैसे बांटने के करार पर न्‍यूजपेपर बांटा करते थे. वहीं आज दुनिया के बड़े से बड़े सेवन स्टार होटल में रहने वाले राकेश कभी अपने पॉकेट खर्च या प्रतियोगी परीक्षा के फीस के लिए पटना के मौर्या होटल में एक रात के डेढ़ सौ रुपये के लिए वेटर का भी काम कर चुके हैं. राकेश बताते हैं कि आगे की पढ़ाई के लिए वे दिल्‍ली गए. पटना में एक बैकलॉग लग चुका था. तो दिल्‍ली में तो एडमिशन ही कॉरेस्‍पोंडेंस कोर्स में मिला. कुछ ट्यूशन वगैरह कर दिल्‍ली का खर्च निकाला. राकेश की मेहनत रंग लाई उन्हें एक मल्‍टीनेशनल कंपनी में छह हजार रुपये की नौकरी मिली.

ट्रेनिंग को विदेश भेजा गया. पर तीसरे महीने ही मार्केटिंग हेड ने बुलाकर इस्‍तीफा देने को कहा. राकेश को बहुत धक्का लगा. तब मार्केटिंग हेड ने उन्हें एक कंपनी बनाने की सलाह देते हुए कोई पचास लाख रुपये का आॅर्डर दिया. इसके बाद राकेश पांडेय ने कभी पीछे नहीं देखा है. आगे ही बढ़ते जा रहे हैं. कुछ दिनों वे फार्मा बिजनेस में आ गए. तय किया कि कैंसर को हराने के लिए कुछ किया जाए. और तब से राकेश पांडेय की कंपनी लगातार बढ़ रही है. राकेश पांडेय का मानना है कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में भविष्‍य भारत का है. राकेश पांडेय का फोकस जेनेरिक मेडिसिन पर भी है. कैंसर रोग से लड़ने के लिए दुनिया के कई देशों में एडवांस्‍ड डायग्‍नोस्टिक सेंटर की स्‍थापना कर रहे हैं. राकेश ने बातों ही बातों में बताया कि वह अपने देश और राज्य के लिए स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफी कुछ करना चाहते है. इसके लिए राज्य सरकार और कैंसर स्पेशलिस्ट चिकित्सकों से बातचीत जारी है.

Bihar k mati ke Lal

राजपथ पर राष्ट्रपति को ‘आकाश’ मिसाइल के साथ सलामी देगा बिहार का लाल

Published

on

गणतंत्र दिवस के मौके पर भारतीय इतिहास में बेगूसराय एक बार फिर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने जा रहा है. दरअसल, दिल्ली के राजपथ पर सेना द्वारा दिखाई जाने वाली झांकी में बेगूसराय के कैप्टन आर्यन गौतम ‘आकाश’ मिसाइल के साथ राष्ट्रपति को सलामी देंगे. इस उपलब्धि से कैप्टन आर्यन के पैतृक गांव रतनपुर में हर्ष का माहौल है और पूरा परिवार आर्यन को देखने के लिए लालायित है.

MUST READ: पूर्व राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी, नानजी देशमुख और भूपेण हजारिका को भारत रत्‍न

कैप्टन आर्यन गौतम मूल रूप से बेगूसराय जिले के रतनपुर गांव के रहने वाले हैं. उनके पिता का नाम नंद कुमार गौतम और माता का नाम शर्मिला गौतम है. डीएवी स्कूल में आर्यन की मां शर्मिला गौतम शिक्षिका और पिता नंद कुमार गौतम प्राचार्य के पद पर कार्यरत हैं. आर्यन की प्रारंभिक शिक्षा बेगूसराय के रतनपुर स्थित एक प्राइवेट स्कूल में हुई. उसके बाद अपने पिता के साथ भूटान में रहकर पढ़ाई की. वहीं दसवीं और बारहवीं की पढ़ाई डीपीएस स्कूल पटना से पूरी करने के बाद एनडीए की तैयारी में जुट गए और उसमें सफल रहे.

वह 10 नवंबर 2016 को लेफ्टिनेंट के पद पर भारतीय सेना में शामिल हुए और 16 दिसंबर 2018 को कैप्टन के पद में प्रोन्नति मिली. इसके तुरंत बाद 26 जनवरी को राजपथ पर आकाश मिसाइल से राष्ट्रपति को सलामी की बड़ी जिम्मेदारी आर्यन को सौंपी गई है.आर्यन गौतम इंडियन आर्मी में कैप्टन के पद पर राजस्थान में पदस्थापित हैं और उन्हीं के यूनिट में जमीन से हवा में मार करने वाला आकाश मिसाइल शामिल है. इस उपलब्धि से कैप्टन आर्यन गौतम के परिजन और गांव के लोग काफी खुश हैं.

MUST READ: अनंत सिंह को लेकर कांग्रेस को राजद नेता ने दे दी यह सलाह, जानें क्या कहा ?

आर्यन गौतम के फौज में जाने की कहानी भी दिलचस्प है. आर्यन फौज से ही सेवानिवृत्त अपने दादाजी से काफी प्रभावित हुआ और उनकी वीरता की कहानी सुनकर बचपन से ही फौज में जाने की जिद पर अड़ गया. कैप्टन आर्यन गौतम के दादाजी रामनरेश सिंह सब इंस्पेक्टर के पद पर फौज में कार्यरत थे और बिहार रेजिमेंट की ओर से 1965 और 1971 कि लड़ाई में बड़ी भूमिका निभाई. आर्यन के दादाजी रामनरेश सिंह ने बताया कि 1971 की लड़ाई में कश्मीर बॉर्डर से हमारी यूनिट ने पाकिस्तान पर धाबा बोला तो पाकिस्तान सीमा में चालीस किलोमीटर अंदर शंकरगढ़ तक फतह हासिल की और तत्कालीन शासकों ने सेना को नहीं रोका होता तो 9 किलोमीटर दूर बचे लाहौर पर भी भारत का कब्जा हो जाता और पाकिस्तान का किस्सा ही समाप्त हो गया होता.

बचपन से दादाजी की वीरता की कहानी सुनकर आर्यन ने उन्हें अपना आदर्श मानते हुए ये मुकाम हासिल किया. आर्यन के दादाजी कहते हैं कि आर्यन ने उनका सपना साकार कर दिया है. वहीं, आर्यन की दादी जो रिटायर्ड शिक्षिका हैं अपने पोते के उपलब्धि से गदगद है और बताती हैं कि आर्यन बचपन से ही पढ़ाई लिखाई में काफी तेज था और उसका लक्ष्य था कि पढ़-लिखकर सेना में बड़ा अधिकारी बनूंगा जो उसने हासिल किया. बहरहाल, बेगूसराय के इस सपूत को राजपथ पर देखने के लिए पूरा जिला लालायित है. साथ ही साथ पूरा बेगूसराय अपने इस लाल पर गर्व कर रहा है कि अपने वीर सैनिक दादा के पोते आर्यन गौतम स्वदेश में निर्मित आकाश मिसाइल के साथ गणतंत्र दिवस के मौके पर एक बार फिर जिले का मान बढ़ाएगा.

Continue Reading

Bihar k mati ke Lal

विलुप्त होती प्राचीन कला भित्ति-चित्र को फिर से स्थापित कर रही है बिहार की बेटी प्रीति

Published

on

देश की सबसे प्राचीन कला में शुमार भित्ति चित्र भले ही अब कुछ राज्यों की पहचान हो, लेकिन शहर की एक कलाकार इसे देश भर में फिर से स्थापित करने में लगी हैं. पंद्रह वर्षों के अथक प्रयास से इन्होंने इस कला को वैसे शहरों में स्थापित किया है, जहां से यह विलुप्त हो गयी थी. गोबर, मिट्टी व प्राकृतिक रंगों से दीवारों पर भित्ति चित्र बनाने के साथ प्रीति इस कला को बचाये रखने के लिये लोगों को जागरूक भी कर रही हैं. आधुनिक परिवेश में रह रहे लोगों को घर की दीवारों पर गोबर से चित्रकारी के लिये राजी करना आसान नहीं होता, लेकिन प्रीति की कलाकृति ही ऐसी होती है, कि लोग मोहित हो जाते हैं. अपनी कला साधना की बदौलत प्रीति ने दिल्ली के कई घरों व मॉल में चित्र बनाया है.

दादी से हुईं प्रभावित
प्रीति बताती हैं कि उनका पुश्तैनी मकान मुजफ्फरपुर, गायघाट के बाघाखाल में है. बचपन में वह दादी को घर की दीवारों पर गोबर व मिट्टी से कलाकृति बनाते देखती थीं. यह कला उनके मन में बैठ गयी. फिर वे खुद गोबर व मिट्टी लेकर दीवारों पर चित्र बनाने लगीं. राजनीति शास्त्र में एमए करने के बाद वे दिल्ली चली आयीं, लेकिन भित्ति-चित्र बनाना नहीं छोड़ा. यहां लोग इस कला से काफी प्रभावित हुए. कई लोगों ने घर की दीवारों पर बनवाया. केंद्र सरकार का पर्यटन मंत्रालय ने भी प्रीति के भित्ति-चित्र व स्क्रैप पेंटिंग से प्रभावित होकर कलाकारों की सूची में शामिल किया है. अब ये स्मार्ट सिटी सहित पर्यटन वाले क्षेत्रों में भित्ति-चित्र व स्क्रैप पेंटिंग बना रही हैं.

कई शहरों में बनाये भित्ति-चित्र व मेराल
प्रीति कहती हैं कि सबसे पहले उन्होंने भोपाल में भित्ति चित्र व मेराल बनाये. इसके बाद मसूरी, देहरादून, चंडीगढ़, दिल्ली, इंदौर, गंगटोक व उत्तरकाशी के कई जगहों पर भित्ति-चित्र व मेराल बना कर लोगों को प्राचीन कला के संरक्षण का संदेश दिया है. मुजफ्फरपुर के एक छोटे से गांव से सीखी कला को आज पूरे देश में लोग पसंद कर रहे हैं, यह मेरे लिये बड़ी बात है. प्रीति कहती हैं कि नयी पीढ़ी गोबर व मिट्टी की उपेक्षा नहीं करें. जिन घरों में गोबर का उपयोग होता है, वहां बैक्टीरिया नहीं पनपते. लोगों को इस कला को बचाये रखने के लिये आगे आना चाहिए.

Continue Reading

Bihar k mati ke Lal

लाखों की नौकरी छोड़ मुजफ्फरपुर के इस युवक ने मक्के के छिलके से बना डाला बैग

Published

on

एमटेक के बाद लाखों रुपए की नौकरी छोड़ बिहार के मुजफ्फरपुर के मोहम्मद नाज अपने गांव आ गए क्योंकि वो अपने सपनों को पूरा करना चाहते थे. शुरुआत में गांव वालों ने उनका मजाक उड़ाया लेकिन अब उन्हें अपने बेटे पर गर्व है. बिहार के मुजफ्फरपुर के मोहम्मद नाज ने प्लास्टिक से पर्यावरण को मुक्त करने का संकल्प लिया था. लंबे समय से रिसर्च के बाद अब उन्होंने मक्के के छिलके से झोला, कप-प्लेट और तिरंगा तक बनाकर पर्यावरण की रक्षा करने और प्लास्टिक का विकल्प ढूंढ निकाला. मोहम्मद नाज को पूसा एग्रिकल्चर कॉलेज के वैज्ञानिक का साथ मिला है. मोहम्मद नाज ने पहले केला, पपीता, बांस और फिर मक्का पर शोध किया और अंत में वो इस निष्कर्ष पर पहुंचे प्लास्टिक के विकल्प के लिए मक्के का छिलका सबसे उपयुक्त है.

नाज ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘एक किताब में मैंने पढ़ा था कि आज से पचास साल बाद समुद्र में मछलियों से अधिक प्लास्टिक की थैली होंगी. उस दिन मैंने संकल्प लिया कि मैं कोई ऐसा प्रोडक्ट तैयार करूंगा जो प्लास्टिक की जगह ले सके.’ खबर के माध्यम से इस प्रोडक्ट की जानकारी डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद सेंट्रल एग्रीकल्चर यूनिवरसिटी पूसा के वैज्ञानिकों को मिली और वहां के चीफ साइंटिस्ट डॉक्टर मृत्युंजय कुमार मोहम्मद नाज से मिलने उनके घर पहुंचे. पूरी तरह से जांच के बाद डॉक्टर मृत्युंजय ने प्रोडक्ट के साथ कॉलेज बुलाया.

डॉ. मृत्युंजय का कहना है कि मक्का बिहार का एक प्रमुख फसल है. लगभग 8 लाख हेक्टयर में बिहार में मक्के की खेती होती है. किसानों को इससे काफी फायदा होता है और अगर मक्का से कोई ऐसा समान बनाया जाए जो पर्यावरण की रक्षा भी करे और साथ ही नई नौकरियां भी उत्पन्न कर आमदनी बढ़ाने का जरिया बने इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है. वहीं, मोहम्मद नाज के पिता का कहना है कि जब वो नौकरी छोड़ कर घर आया तो पहले लगता था कि यह अपना समय बरबाद कर रहा है लेकिन धीरे-धीरे अब यह लग रहा है कि ये सफल हो जाएगा.

Continue Reading
Advertisement
Politics23 mins ago

शेल्टर होम केस: CM नीतीश के खिलाफ CBI जांच की खबर निकली झूठी

Astrology52 mins ago

तुला राशिवालों को आज नौकरी और बिजनेस में होगा फायदा

Videos13 hours ago

पटनासिटी अंचल कर्मियों ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि, लगाए भारत माता की जयकारे

events16 hours ago

शिव सेना जाति निरपेक्षता व सदभाव को अलग रखकर लड़ती है चुनाव : सुमित रंजन

events16 hours ago

राज्यभर के CA ने की यूनियन बजट 2019 के लाभ-हानि पर चर्चा

Bihar17 hours ago

VIDEO: शहीदों की बेटियों को नहीं खलेगी पिता की कमी…जाने क्यों?

Bihar18 hours ago

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड: CM नीतीश कुमार के खिलाफ CBI जांच का आदेश

Bihar19 hours ago

कार और ट्रक में हुई टक्कर,एक परिवार के पांच लोगों की गयी जान

CRIME1 day ago

पुलवामा हमले का असर: पटना में कश्मीरियों पर हमला, बढ़ाई गई सुरक्षा

Astrology1 day ago

आज इन राशिवालों के लिए अच्‍छा रहेगा दिन, समस्‍याएं होंगी दूर

Videos1 day ago

VIDEO: Pulwama Terror Attack: शहीदों की शहादत पर रोया पूरा बिहार

Trending1 day ago

PulwamaTerrorAttack: बिहार में फूटा लोगों का गुस्सा, युवा कांग्रेस और शिवसैनिकों ने निकाला कैंडल मार्च

Politics2 days ago

फियादीन हमले से देश शोकाकुल, लालू के कन्हैया खुद को चमकाने में हैं जुटे: आचार्य व्यंकटेश शर्मा

Videos2 days ago

बढ़ते अपराध के कारणों को चित्रों से कराया रु-ब-रु

Videos2 days ago

PULWAMA TERROR ATTACK: राजनीति को दरकिनार रखकर सभी दल राष्ट्रहित में खड़ा हो : निशांत झा

Bihar17 hours ago

VIDEO: शहीदों की बेटियों को नहीं खलेगी पिता की कमी…जाने क्यों?

Politics2 days ago

फियादीन हमले से देश शोकाकुल, लालू के कन्हैया खुद को चमकाने में हैं जुटे: आचार्य व्यंकटेश शर्मा

CRIME1 day ago

पुलवामा हमले का असर: पटना में कश्मीरियों पर हमला, बढ़ाई गई सुरक्षा

Videos1 day ago

VIDEO: Pulwama Terror Attack: शहीदों की शहादत पर रोया पूरा बिहार

National2 days ago

पुलवामा आतंकवादी हमला: पाकिस्तान का ईंट से ईंट बजा कर ही अब दम लेंगे: निशांत झा

Astrology1 day ago

आज इन राशिवालों के लिए अच्‍छा रहेगा दिन, समस्‍याएं होंगी दूर

Trending1 day ago

PulwamaTerrorAttack: बिहार में फूटा लोगों का गुस्सा, युवा कांग्रेस और शिवसैनिकों ने निकाला कैंडल मार्च

Bihar2 days ago

FIR के बाद भी पुलिस ने छोड़ा बिल्डर को,थानाध्यक्ष को देना होगा जवाब

Videos2 days ago

PULWAMA TERROR ATTACK: राजनीति को दरकिनार रखकर सभी दल राष्ट्रहित में खड़ा हो : निशांत झा

Videos13 hours ago

पटनासिटी अंचल कर्मियों ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि, लगाए भारत माता की जयकारे

Videos2 days ago

बढ़ते अपराध के कारणों को चित्रों से कराया रु-ब-रु

events16 hours ago

शिव सेना जाति निरपेक्षता व सदभाव को अलग रखकर लड़ती है चुनाव : सुमित रंजन

events16 hours ago

राज्यभर के CA ने की यूनियन बजट 2019 के लाभ-हानि पर चर्चा

Bihar18 hours ago

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड: CM नीतीश कुमार के खिलाफ CBI जांच का आदेश

Astrology52 mins ago

तुला राशिवालों को आज नौकरी और बिजनेस में होगा फायदा

Videos13 hours ago

पटनासिटी अंचल कर्मियों ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि, लगाए भारत माता की जयकारे

Videos1 day ago

VIDEO: Pulwama Terror Attack: शहीदों की शहादत पर रोया पूरा बिहार

Videos2 days ago

बढ़ते अपराध के कारणों को चित्रों से कराया रु-ब-रु

Videos2 days ago

PULWAMA TERROR ATTACK: राजनीति को दरकिनार रखकर सभी दल राष्ट्रहित में खड़ा हो : निशांत झा

Videos4 days ago

केंद्रीय औषद्यालय को हटाए जाने पर पटना विश्वविद्यालय के छात्र हुए उग्र

Videos4 days ago

जान खतरें में डाल दिहाड़ी करने को इन मजबूरों का कौन बनेगा रहनुमा

Videos6 days ago

भाई का भात ही पहुंचाएगा मंजिल तक : विभात कुमार सिंह

Videos1 week ago

VIDEO: उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश सरकार को दिया था अल्टीमेंटम, सीएम को बताया झूठा

Videos1 week ago

भूमिहार समाज का उत्थान ही जीवन का बड़ा लक्ष्य: विभात कुमार सिंह

Videos1 week ago

प्रयागराज कुंभ 2019 : विद्वत संगोष्ठी में पहुंचे भाजपा के वरिष्ठ नेता जनार्दन सिंह सिग्रीवाल

Videos2 weeks ago

KUMBH MELA 2019: प्रयाग में दो दिवसीय विद्वत संगो​ष्ठी को रवाना हुआ बिहार का दल

Videos2 weeks ago

VIDEO: जुमलेबाजी में नहीं फंसने वाली जनता, उनकी चाह इस बार हो महागठबंधन की सरकार!

Videos2 weeks ago

बोली बिहार की बेटी, राहुल से है उम्मीद, केंद्र की योजनाओं का लाभ तो अमीरों को रहा मिल

Politics2 weeks ago

दिल्ली में बनी कांग्रेस सरकार तो बिहार का होगा संपूर्ण विकास : अनुराग श्रीवास्तव

Videos4 weeks ago

बाहुबली अनंत सिंह ने खुद को बताया कांग्रेस उम्‍मीदवार, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने नकारा

Trending

Copyright © 2018 Biharimati Powered by Leadpanther.