Connect with us

Trending

Video: नहीं रहे पलामू के धरती पूत्र पूर्व राज्यपाल भीष्म नारायण सिंह

Published

on

846 Views

पलामू के धरती पुत्र के रूप में प्रसिद्धा पूर्व राज्यपाल भीष्म नारायण सिंह का बुधवार की शाम निधन हो गया. सात राज्यों के राज्यपाल रह चुके भीष्म नारायण ने दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में अंतिम सांस ली. वे 87 वर्ष के थे. पिछले कई दिनों से वे बीमार थे. उनके पुत्र उमाशंकर सिंह उर्फ भरत बाबू ने बताया कि दिवंगत नेता का अंतिम संस्कार दिल्ली के लोदी रोड श्मशान घाट में गुरुवार को किया जाएगा.

भीष्म नारायण सिंह 1985 से 1996 तक असम, मेघालय सहित सात राज्यों के राज्यपाल रहे थे.  मूल रूप से पलामू जिले के उदयगढ़ के निवासी भीष्म नारायण सिंह जीवन भर कांग्रेस से जुड़े रहे. उनका जन्म 13 जुलाई 1933 को एक किसान परिवार में हुआ था. बीएचयू से ग्रेजुएट होने बाद वे 42 वर्ष की उम्र में पॉलिटिक्स में आए. वह पहली बार 1967 में हुसैनाबाद से विधायक बने. वे एकीकृत बिहार में शिक्षा, खनन एवं भूतत्व, खाद्य आपूर्ति और वाणिज्य मंत्री रहे। वह 1976 में राज्यसभा के लिए चुने गए.

वेंकटेश शर्मा ने उड़ा दी लालू परिवार की नींद, गंवानी पड़ सकती है तेजस्वी को अपनी कुर्सी

उन्होंने केंद्र में संसदीय कार्य, आवास, श्रम, खाद्य व नागरिक आपूर्ति और संचार मंत्री के रूप में काम किया. वर्ष 1984 में उन्हें असम और मेघालय का राज्यपाल बनाया गया. बाद में वे सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश और तमिलनाडु के राज्यपाल भी बनाए गए. भीष्म नारायण सिंह ने करीब चार दशक तक राजनीति में सक्रिय भूमिका निभायी. उन्हें कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके थे. उन्हें 2009 में रूसी परिसंघ का सर्वोच्च नागरिक सम्मान आर्डर आफ फ्रेंडशिप अवार्ड प्रदान किया गया.

उधर पूर्व राज्यपाल व पूर्व केंद्रीय मंत्री भीष्म नारायण सिंह के निधन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद व राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव, राज्यसभा सांसद मीसा भारती के साथ साथ अन्य राजनेता और समाजसेवियों ने शोक प्रकट की.

Trending

मकर संक्रांति : पटना के गंगा घाटों पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, जाने शुभ मुहूर्त, मंत्र और पूजा विधि

Published

on

मकर संक्रांति के मौके पर देश भर के पवित्र घाटों पर श्रद्धालु डुबकी लगा रहे हैं. पटना में भी विभिन्न गंगा घाटों पर लोग सुबह से ही स्नान करने पहुंचे. घाटों पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ दिखी. इस दिन स्नान कर और भगवान सूर्य की अराधना की जाती है. मकर संक्रांति के मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी प्रदेश के लोगों को बधाई दी है. मकर संक्रांति के मौके प्रशासन के पटना के गंगा घाटों पर खास इंतजाम देखने को मिल रहे हैं. श्रद्धालु सुबह से ही गंगा घाटों पर पहुंचने शुरु हो गए थे. इस दिन स्नान-दान, तिल ग्रहण करना शुभ माना गया है. इसके साथ ही सूर्य दक्षिणायण से उत्तरायण हो जाएंगे और खरमास समाप्ति हो जायेगी. मकर संक्रांति को 14 और 15 दोनों दिन मनाया जा रहा है.

तिलकुट की बिक्री भी जोरों पर
मकर संक्रांति को लेकर बाजार में तिलकुट की बिक्री भी जोरों पर है. शहर के विभिन्न चौक-चौराहे पर खुली दुकानों में रविवार की देर शाम तक तिलकुट खरीदने के लिए भीड़ रही. महंगाई के बाद भी ग्राहकों के उत्साह में कोई कमी देखने को नहीं मिल रहा है. वहीं, गया का खास तिलकूट इस मौके पर बहुत डिमांड में है.

MUST READ: मकर संक्रांति से इन राशि वालों की चमकेगी किस्मत

मकर संक्रांति शुभ मुहूर्त-
पुण्य काल मुहूर्त – 07:14 से 12:36 तक (15 जनवरी 2019)
महापुण्य काल मुहूर्त – 07:14 से 09:01 तक (15 जनवरी 2019 को)

मकर संक्रांति पूजा विधि-
मकर संक्रांति के दिन सुबह किसी नदी, तालाब शुद्ध जलाशय में स्नान करें. इसके बाद नए या साफ वस्त्र पहनकर सूर्य देवता की पूजा करें. चाहें तो पास के मंदिर भी जा सकते हैं. इसके बाद ब्राह्मणों, गरीबों को दान करें. इस दिन दान में आटा, दाल, चावल, खिचड़ी और तिल के लड्डू विशेष रूप से लोगों को दिए जाते हैं. इसके बाद घर में प्रसाद ग्रहण करने से पहले आग में थोड़ी सा गुड़ और तिल डालें और अग्नि देवता को प्रणाम करें.

मकर संक्रांति पूजा मंत्र
ऊं सूर्याय नम: ऊं आदित्याय नम: ऊं सप्तार्चिषे नम:

Continue Reading

Trending

बिहार में मछली खाना किसी खतरे से कम नहीं, लग सकता है प्रतिबंध

Published

on

आप मछली खाने के शौकिन हैं और अपने स्वास्थ्य से प्यार है तो ये खबर आपके लिए बहुत जरूरी है. आंध्र प्रदेश से आने वाली मछलियों को या बिहार में रहकर मछली खाना किसी खतरे से कम नहीं है. बिहार में मछलियों के खाने से लोग कैंसर जैसी घातक बीमारी की चपेट में आ सकते हैं. दरअसल बिहार में आने वाली मछलियों में फर्मलीन, कैडमियम लेड और फॉर्मल डिहाइड की मात्रा पाई गई है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती है.

फर्मलीन से होता है कैंसर
फर्मलीन का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल की खबरें आ रही थी. दरअसल फर्मलीन का प्रयोग मछलियों को अधिक दिनों तक सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है. इसके इस्तेमाल से कैंसर होने की संभावना बहुत अधिक होती है.

कैडमियम भी होता है खतरनाक
कैडमियम, ई कचरे और औद्योगिक कचरे में पाया जाने वाला बेहद नुकसान पहुंचाने वाला तत्व है. मछलियां अक्सर पानी में कैडमियम युक्त भोजन करती हैं और इसकी थोड़ी सी भी मात्रा हमारे जीवन में विभिन्न बीमारियों का कारण बन सकती है. इससे बुखार, मांस पेशियों में दर्द, ब्रांकाइटिस, निमोनिया के अलावा लीवर पर घातक प्रभाव पड़ सकता है और न केवल वे डैमेज हो सकते हैं बल्कि कैंसर भी हो जाता है.

जांच के लिए भेजे गए सैंपल
मिली जानकारी के अनुसार आंध्र प्रदेश से आने वाली मछलियों में बड़ी मात्रा में फर्मलीन का प्रयोग किया जाता है. इसकी पुष्टि के लिए जांच के लिए सैंपल कोलकाता भेजे गए थे जहां सभी 10 मानकों पर निगेटिव रिपोर्ट आए. इसका मतलब साफ है कि बिहार में मछली खाना आपके लिए जानलेवा साबित हो सकता है.

इंफेक्शन का भी होता है खतरा
फर्मलीन युक्त या दूषित मछलियों को खाने से बैक्टिरियल इंफेक्शन का भी खतरा अधिक होता है. कई बार लोग जल्दी रिकवर कर लेते हैं लेकिन अगर इम्यून सिस्टम कमजोर हो तो इंफेक्शन की वजह से लोगों की जान तक जा सकती है. इसलिए कभी भी ऐसी चीजों को खाने से पहले अच्छे से जांच पड़ताल करें ताकि इसे खाना भारी ना पड़े.

करें रिसर्च...
फर्मलीन के अलावा जिन मछलियों में मिथाइल मर्करी अधिक मात्रा में पाई जाती है उन्हें खाने से बचना चाहिए. मिथाइल मर्करी खासकर प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए खाना घातक हो सकता है क्योंकि मिथाइल मर्करी भ्रुण के मस्तिष्क, नर्वस सिस्टम और किडनी को क्षति पहुंचाता है। यह एक जहरीला रसायन है जो प्लासेंटा के जरिये भ्रुण तक जाकर उसको नुकसान पहुंचाता है.

बिहार में लग सकता है प्रतिबंध
सभी 10 मानकों पर निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद बिहार में अब सरकार मछलियों पर जल्द ही बैन लगा सकती है. फर्मलीन की पुष्टि के बाद अधिकतर मछली बाजार बंद पाए गए हैं. सत्ता पक्ष से लेकर विपक्ष तक मछलियों पर प्रतिबंध के पक्ष में है और सरकार जल्द ही इसपर फैसला ले सकती है.

Continue Reading

Trending

CBI चीफ बने रहेंगे आलोक वर्मा, कोर्ट ने रद्द किया सरकार का फैसला

Published

on

सीबीआई विवाद मामले में आज सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया. फैसले से जहां केंद्र सरकार को झटका लगा है वहीं जांच एजेंसी के निदेशक वर्मा को भी पूरी तरह से राहत नहीं मिली है. सीबीआई निदेशक ने सरकार द्वारा उन्हें छुट्टी पर भेजे जाने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. आज इस मामले में उन्हें 75 दिन बाद राहत मिली है. अदालत ने सरकार के 23 अक्तूबर को दिए आदेश को निरस्त कर दिया है लेकिन यह भी कहा है कि वर्मा को नीतिगत फैसला लेने का कोई हक नहीं होगा.

फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के आदेश को रद्द करने के बाद आलोक वर्मा को सीबीआई निदेशक के पद पर बहाल कर दिया है. अदालत का कहना है कि डीएसपीई अधिनियम के तहत उच्च शक्ति समिति एक हफ्ते के अंदर उनके मामले पर कार्रवाई करने का विचार करें. जब तक उच्च स्तरीय समिति आलोक वर्मा पर कोई फैसला ने ले वह कोई बड़ा फैसला नहीं ले सकते हैं.

अदालत ने यह भी कहा कि सरकार को आलोक वर्मा को हटाने के मामले को भारत के मुख्य न्यायाधीश, प्रधान मंत्री और विपक्ष के नेता वाली चयन समिति के पास भेजा जाना चाहिए था. बता दें कि वर्मा का सीबीआई मुखिया के तौर पर कार्यकाल 31 जनवरी को समाप्त हो रहा है.

MUST READ: आज और कल इन बैंकों में रहेगी हड़ताल, बैंक जाने से पहले जान लें

वर्मा ने केंद्र सरकार द्वारा उनके अधिकार छीनने और जबरन छुट्टी पर भेजने के खिलाफ याचिका दायर की थी. सरकार ने वर्मा और सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच विवाद सार्वजनिक होने के बाद यह कार्रवाई की थी. हालांकि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई आज छुट्टी पर थे इसलिए उनकी अनुपस्थिति में जस्टिस संजय किशन कौल ने फैसला पढ़ा.इससे पहले 6 दिसंबर को मामले की सुनवाई हुई थी. जिसमें आलोक वर्मा, केंद्र और सीवीसी की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया था.

अदालत ने एनजीओ कॉमन कॉज की याचिका पर भी सुनवाई की थी. इस याचिका में राकेश अस्थाना समेत सीबीआई अधिकारियों पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर अदालत की निगरानी में एसआईटी जांच करने की मांग की गई थी.वर्मा ने सीवीसी और कार्मिक विभाग के 23 अक्तूबर 2018 के कुल तीन आदेशों को निरस्त करने की मांग की है. उनका आरोप था कि ये आदेश क्षेत्राधिकार से बाहर जाकर किए गए हैं. साथ ही यह संविधान के मौलिक अधिकारों के विपरीत है.

Continue Reading
Advertisement
Politics13 hours ago

राजद और नित्यानंद राय के बीच छिड़ी चैलेंज जंग, तेज प्रताप ने दिया कुछ ऐसा जवाब?

Politics14 hours ago

पटना आकर देखते हैं राहुल गांधी क्या पोल खोलते हैं’?

Politics15 hours ago

बाहुबली विधायक अनंत सिंह को “भक्षक” के रूप में देख रहा उनका अपना टाल क्षेत्र

Politics1 day ago

RLSP के इस नेता ने बाहुबली विधायक अनंत सिंह के बारे में कहा- वे अपराधी नहीं हैं

Politics1 day ago

बिहार सरकार के मंत्री ने कलश यात्रा में लगाये ‘जय श्री राम’ के नारे, तेज हुई राजनीति

Politics1 day ago

मिशन 2019: फरवरी के अंत तक लोकसभा उम्मीदवारों की घोषणा करेगा जदयू

events2 days ago

मनसा पूरण देवी साईं शिव कृपा मंदिर अष्टम वार्षिकोत्स्व के तीसरे दिन विशाल भंडारा का आयोजन

Politics2 days ago

IRCTC SCAM: व्यंकटेश शर्मा ने पीएम मोदी से की आलोक वर्मा के अकूत संपति की जांच की मांग

Astrology2 days ago

21 जनवरी को लगने वाला है साल का पहला चंद्रग्रहण, जानें कब लगेगा सूतक

Astrology2 days ago

वृष और मीन राशिवालों के लिए आज बन रहे धन लाभ के योग

Jansarokar2 days ago

छात्र नेता अंकित ने गरीबों में कंबल और मिठाई बांट मनाया अपना जन्मदिन

Politics3 days ago

बाहुबली विधायक अनंत सिंह के कुकर्मों का जल्द होगा खुलासा, इस पहलवान ने दे डाली चुनौती

Videos3 days ago

VIDEO: बाहुबली अनंत सिंह ने खुद को बताया कांग्रेस उम्‍मीदवार, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने नकारा

Politics3 days ago

IRCTC SCAM : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की अंतरिम जमानत अवधि 28 जनवरी तक बढ़ी

Politics3 days ago

जानें क्यों बाहुबली विधायक को आज मुंगेर में होने वाला रोड शो छोड़कर लौटना पड़ा पटना

Politics15 hours ago

बाहुबली विधायक अनंत सिंह को “भक्षक” के रूप में देख रहा उनका अपना टाल क्षेत्र

Politics1 day ago

RLSP के इस नेता ने बाहुबली विधायक अनंत सिंह के बारे में कहा- वे अपराधी नहीं हैं

Politics13 hours ago

राजद और नित्यानंद राय के बीच छिड़ी चैलेंज जंग, तेज प्रताप ने दिया कुछ ऐसा जवाब?

Politics2 days ago

IRCTC SCAM: व्यंकटेश शर्मा ने पीएम मोदी से की आलोक वर्मा के अकूत संपति की जांच की मांग

Astrology2 days ago

21 जनवरी को लगने वाला है साल का पहला चंद्रग्रहण, जानें कब लगेगा सूतक

Politics14 hours ago

पटना आकर देखते हैं राहुल गांधी क्या पोल खोलते हैं’?

Politics1 day ago

मिशन 2019: फरवरी के अंत तक लोकसभा उम्मीदवारों की घोषणा करेगा जदयू

Politics1 day ago

बिहार सरकार के मंत्री ने कलश यात्रा में लगाये ‘जय श्री राम’ के नारे, तेज हुई राजनीति

events2 days ago

मनसा पूरण देवी साईं शिव कृपा मंदिर अष्टम वार्षिकोत्स्व के तीसरे दिन विशाल भंडारा का आयोजन

Astrology2 days ago

वृष और मीन राशिवालों के लिए आज बन रहे धन लाभ के योग

Videos3 days ago

बाहुबली अनंत सिंह ने खुद को बताया कांग्रेस उम्‍मीदवार, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने नकारा

Videos4 weeks ago

बिहार में बढ़ते अपराध और सरकार की उदासीनता पर बरसे लालू के कन्हैया

Videos5 months ago

Krishna Janmashtami 2018: जन्माष्टमी की रात करें ये खास उपाय, पूरी होंगी मनोकामनाएं

Videos6 months ago

बिहार के कांग्रेस विधायक की बेटी बनी जॉन अब्राहम की हीरोइन, देखें HOT PHOTO VIDEO

Videos6 months ago

Video: स्वतंत्रता दिवस पर कोहली ने धवन, पंत संग देशवासियों को दिया विराट ‘Challenge’

Trending6 months ago

Video: नहीं रहे पलामू के धरती पूत्र पूर्व राज्यपाल भीष्म नारायण सिंह

Videos6 months ago

अकेले में देखें देशी गर्ल PRIYANKA CHOPRA की यह VIDEO, जगा देगी मर्दांगी

Videos6 months ago

BJP और NDA भगाओ साइकिल यात्रा से पहले खुद ही साइकिल से गिर पड़े तेजप्रताप

Videos6 months ago

बिहार की शान ISHAN KISHAN हुए 20 के, चाहने वालों ने केक काटकर मनाया जन्मदिन

Videos6 months ago

दो-दो लड़कों से प्रेम करना हिना खान को पड़ गया महंगा

Bollywood6 months ago

शादी के बाद नेहा धूपिया ने बिखेरे हॉटनेस के जलवे, सेक्सी वीडियो वायरल

Videos7 months ago

जानें क्यों माही ने कहा उनमें कॉमन सेंस नहीं

Astrology7 months ago

तुला वालों को आज मिल सकता है प्रमोशन, देखें आपके राशिफल में है क्या?

Uncategorized1 year ago

Biharimati wishes Happy New Year नव-वर्ष की पावन बेला में है यही शुभ संदेश हर दिन आये आपके जीवन में लेकर खुशियां विशेष.

Bihar2 years ago

कैबिनेट की मीटिंग हुई खत्म, तेजस्वी का नहीं आया कोई फैसला

Trending

Copyright © 2018 Biharimati Powered by Leadpanther.