Connect with us

Agriculture

क्रय केंद्र नहीं खुलने व अन्य मांगों को लेकर सड़क पर उतरे किसान

Published

on

1029 Views

दलहन फसल के समर्थन मूल्य नहीं मिलने और क्षेत्र में एक भी क्रय केंद्र नहीं खोले जाने से नाराज सैकड़ों किसानों ने कृषि विकास समिति के तत्वावधान में सोमवार को जिले के विभिन्न रेलवे मार्ग एवं सड़क मार्ग को जाम कर आवागमन बाधित कर दिया. किसानों द्वारा रेल और सड़क मार्ग जाम कर दिये जाने से कई ट्रेनें विभिन्न स्टेशनों पर खड़ी रहीं. वहीं, एनएच-80 पर वाहनों की लंबी कतारें लग गयीं.

ड्राइवर से ट्रेन की चाबी लेकर हॉज पाइप को काटा, रेल सेवा बाधित की
चक्का जाम के दौरान किसानों ने बड़हिया स्टेशन पहुंच कर 18184 डाउन टाटा-दानापुर सुपर एक्सप्रेस का हॉज पाइप काट कर ट्रेन के ड्राइवर के पास पहुंचे और इंजन की चाबी ले ली. इतना ही नहीं, पूछताछ कार्यालय और टिकट काउंटर में ताला जड़ दिया. इस कारण रेल का परिचालन अप एवं डाउन में पूर्णत: ठप हो गया. वहीं, लोहिया चौक एनएच-80 पर किसानों ने बैठ कर धरना-प्रदर्शन करते हुए वाहनों का चक्का जाम कर दिया है.

दिख रहे हैं ये 4 लक्षण, तो आपके शरीर में है ये जानलेवा वायरस, बचने को करें ये उपाय

किसानों ने विभिन्न कार्यालयों में जड़ा ताला, कामकाज ठप
सड़क जाम और बाजार बंद के दौरान किसानों ने प्रखंड के नगर पंचायत कार्यालय, प्रखंड मुख्यालय स्थित सभी कार्यालय, कृषि कार्यालय, बैंक सहित अन्य सभी कार्यालयों में ताला जड़ दिया, जिससे कार्य पूर्णत: ठप रहा. वहीं, बड़हिया बाजार भी पूर्णत: बंद रहा. बाजार बंद करनेवालों में कृषि विकास समिति के अध्यक्ष श्यामनंदन सिंह, संजीव कुमार, राजीव कुमार बबलू, घलटुन सिंह, महेश्वरी सिंह, नवीन सिंह, सुजीत आदि किसानों शामिल हैं.

वेतन को लेकर देश भर के बैंक कर्मचारी जाएंगे दो दिन के हड़ताल पर

अप्रिय घटना को लेकर पुलिस कर रही गश्ती
रेल, सड़क और बाजार बंद के दौरान कोई भी अप्रिय घटना न हो, इसको लेकर पुलिस वाहन गश्ती करते नजर आये. वहीं, बड़हिया रेलवे स्टेशन एसडीपीओ मनीष कुमार सहित अन्य पदाधिकारी दलबल के साथ मौजूद थे.

 

 

Hundreds of farmers, unhappy with not getting the support price of the pulse crop, and opening any purchasing center in the area, blocked the traffic by blocking the various railway lines and roads of the district on Monday under the aegis of the Agriculture Development Committee. Many trains were standing at different stations due to the jamming of rail and road by farmers. At the same time, long lines of vehicles appeared on the NH-80.

Agriculture

मौसम विभाग: पटना समेत कई जिलों में अभी बिगड़ेगा मौसम, 50 साल बाद सर्दी में तपा दिन

Published

on

गुरुवार को दिनभर तपने के बाद देर रात से ही बिहार के मौसम ने करवट ले ली है. राजधानी पटना समेत सूबे के सभी जिलों में देर रात जमकर बारिश हुई. बिहार के कई जिलों में बूंदाबूंदी के साथसाथ ओलावृष्टि भी हुई है. हालांकि इस बारिश के बाद ठंड में कोई बढ़ोतरी नही महसूस की गई है. मौसम विभाग के अनुसार अभी दो दिनों तक बादल छाये रहेंगे और आंधी तूफान आने की भी प्रबल संभावना है.

मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट
मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए कहा कि बिहार की राजधानी पटना सहित सूबे के कई जिलों में अगले 9 फरवरी तक रिमझिम बारिश होने की संभावना है. विभाग के अनुसार अगले 24 घंटों तक आंधी तूफान के साथ ओलावृष्टि भी होगी. इस दौरान दिन के तापमान में कमी आएगी, वहीं रात के तापमान में बढ़ोतरी का भी अनुमान है. बता दे कि मौसम विभाग ने पूर्व में ही जानकारी देते हुए ये बताया था कि पूरवा हवा के चलते गुरुवार की शाम से ही हल्के बादल छाये रहेंगे और रुक-रुक बारिश और ओलावृष्टि भी होगी. गौरतलब है कि गुरुवार को राजधानी पटना सहित सूबे के कई जिलों में झमाझम बारिश हुई, इस दौरान कई जिलों में ओलावृष्टि होने की खबर भी आ रही है. मुजफ्फरपुर सहित जिलों में आधी रात से तेज बारिश शुरू हो गई, और कई जगहों पर ओलावृष्टि भी हुई. ऐसे में मौसम विभाग ने चेताते हुए कहा है कि सूबे में अगले दो दिनों तक ऐसे हालात बने रहेंगे.

MUST READ: सुबह-सुबह खुनी हुआ औरंगाबाद, भाजपा नेता को कनपट्टी में सटाकर मारी गोली, मौत

वहीं बता दें कि बिहार में पिछले 50 वर्षों में (2008-09 को छोड़ कर) इस साल दूसरी बार सर्दी सबसे ज्यादा तपी है. इस साल सर्दी में गुरुवार के दिन का तापमान औसत से दो डिग्री अधिक रहा है. दिसंबर और जनवरी में दिन के बढ़े हुए तापमान ने मौसम विज्ञानियों को हैरत में डाल दिया है. सामान्य तौर पर बिहार में दिसंबर महीने में दिन का तापमान 22-23 डिग्री सेल्सियस रहता था, इस साल पूरे महीने 24-25 डिग्री सेल्सियस के ऊपर रहा. जनवरी में दिन का औसत तापमान 20-21 डिग्री सेल्सियस रहता था, जबकि इस साल 22 से 25 डिग्री के ऊपर रहा. जनवरी में करीब दस दिन तापमान 26 डिग्री तक रहा. पूरे बिहार के संदर्भ में यह आकलन डॉ राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विभाग का है.

मार्च-अप्रैल में होगी अच्छी-खासी बारिश : केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानियों का आकलन है कि मार्च से अप्रैल तक सामान्य तौर पर 10 से 15 मिलीमीटर बारिश होती है. अबकी बार इससे कई गुना अधिक बारिश होगी. दरअसल पश्चिमी विक्षोभ इस बार मार्च-अप्रैल में ज्यादा प्रभावी होने की उम्मीद है.

Continue Reading

Agriculture

रात में आसामान से किसानों के लिए बरसा अमृत, अगले दो दिनों तक बारिश होने के आसार

Published

on

सूबे में मौसम तेजी से करवट ले रहा है. पश्चिमी विक्षोभ के कारण राजधानी समेत पूरे प्रदेश में घने बादल छाए है. बुधवार की रात दस बजे के बाद राजधानी में बारिश शुरू हो गई. दिन में सारण समेत कई जिलों में बारिश हुई. मध्य और दक्षिणी बिहार में गुरुवार तथा शुक्रवार को बारिश होने की उम्मीद है. सूबे में अगले दो दिनों तक बारिश होने के आसार बने हुए हैं. बारिश से ठंड बढ़ने के आसार हैं.

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों के अनुसार भूमध्यसागर से उठा विक्षोभ अफगानिस्तान और पाकिस्तान को पार करते हुए जम्मू-कश्मीर, दिल्ली, यूपी के बाद बिहार पहुंचा है. इस कारण अगले 48 घंटे तक राज्य में बारिश होने की उम्मीद है.  बारिश के बाद तापमान में गिरावट आई है. बादल होने के कारण राजधानी का न्यूनतम तापमान 16.2 डिग्री सेल्सियस एवं अधिकतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक डॉ ए सत्तार के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के कारण बारिश हुई है और आगे भी संभावना है.

मौसम विज्ञानियों के मुताबिक पूरे एक माह से अधिक सोये रहे पश्चिमी विक्षोभ ने बुधवार को बिहार में दस्तक दे दी है. यह अगले दो-तीन दिन और सक्रिय रहेगा. इससे खास तौर पर गेहूं और दूसरी रबी की फसलों को फायदा होगा. दरअसल विक्षोभ के चलते तापमान में गिरावट होगी. खेतों में नमी आयेगी. फसलों को जबरदस्त फायदा होगा. उनके लिए पानी अमृत के समान साबित होगा. ऐसी स्थिति अगले दो तीन दिन तक बनी रह सकती है.

Continue Reading

Agriculture

मधुबनी के सुखराम को मशरूम की खेती ने दी पहचान, खुद लाखों कमाते हैं औरों को भी सिखाते हैं

Published

on

बिहार के मधुबनी जिले के किसानों को हर साल बाढ़ और सूखे से लाखों का नुकसान होता है. इन नुकसान को रोकने के लिए सुखराम चौरसिया (35) ने एक तरीका निकला जिससे वो खुद तो लाखों की कमाई कर ही रहे है साथ ही अपने इलाके के और किसानों के लिए एक रोल मॉडल बने हुए है.
सुखराम चौरसिया मधुबनी जिले से करीब 20 किमी. दूर रांटी गांव में रहते है. सुखराम बताते हैं कि पहले हम पारम्परिक खेती (धान, गेंहू, मक्का) ही करते थे. सूखे और बाढ़ के वजह से हर बार नुकसान ही होता था, जितनी लागत लगाते थे उतना भी नहीं निकल पाता था. तब मैंने एक पत्रिका में मशरूम की खेती के बारे में पढ़ा और मशरूम की खेती शुरू की. आज कम जगह और कम पूंजी से अच्छी कमाई हो रही है.


मशरूम की खेती की खूबी की चर्चा करते हुए चौरसिया कहते हैं कि इससे किसान लागत का दुगना फायदा महज चार महीने में आसानी से उठा लेते हैं. भारत में मशरूम उगाने का उपयुक्‍त समय अक्टूबर से मार्च के महीने है. इन छह महीनो में दो फसलें उगाई जाती हैं. शुरू में आने वाली परेशानियों के बारे में चौरसिया ने बताया कि जब मैंने मशरूम की खेती शुरू की तब इलाके के लिए बहुत नई बात थी. उस वक्त अखबारों और पत्रिकाओं में इसकी चर्चा तो होती थी, लेकिन व्यवहारिक धरातल पर इस इलाके के किसानों के बीच इसे लेकर कोई खास उत्साह नहीं था. इससे भी बड़ी समस्या इसके बाजार को लेकर थी. स्थानीय बाजार में इसके खरीदार काफी कम थे. ऐसे में मैंने मशरूम को सुखाकर बाहर भेजना शुरू किया. धीरे-धीरे मुनाफा होने लगा. मेरे साथ ऐसे और लोग भी जुड़ने लगे.

अब सुखराम सूखा और बाढ़ की मार झेलने वाले इस इलाके में पिछले सात वर्षों से मशरूम की खेती कर रहे हैं, साथ ही अपने आस-पास के किसानों को भी प्रशिक्षण दे रहे हैं. अभी हम एक हजार वर्ग फीट से 30 से 35 हजार रूपए कमा रहे हैं. मेरे यहां से प्रशिक्षण लेकर सैकड़ों किसानों ने मशरूम की खेती शुरू कर दी है. कुछ किसान पूरी तरह मशरूम की खेती से जुड़ गए हैं और वे इससे लाखों की कमाई कर रहे हैं. मशरूम की खेती करके मेरी खुद की अलग पहचान बनी हुई है. दूर-दूर के लोग मुझे जानते हैं.

पिछले सात सालों में बाजार में मशरूम की मांग काफी बढ़ गई है. स्थानीय बाजार के साथ बाहर के बाजारों में भी हर वक्त इसकी मांग बनी रहती है. मधुबनी जिला में करीब 100 किसान मशरूम की खेती कर रहे हैं. इनमें से अधिकतर किसान साल के सिर्फ तीन-चार माह ही इसकी खेती करते हैं, जबकि करीब 10 किसान ऐसे हैं जो साल भर मशरूम की खेती करते हैं. सुखराम आगे बताते हैं, “मशरूम की मौसमी खेती करने वाले किसान औसतन 30 से 35 हजार रुपए कमा लेते हैं, जबकि पूरी तरह मशरूम की खेती से जुड़ चुके किसान इससे 1.5 लाख रुपए सालाना तक कमा रहे हैं. कुछ ऐसे किसान भी है, जिनकी आय 2 लाख से 3 लाख रुपए के बीच है.

 

The farmers of Madhubani district of Bihar suffer losses of floods and droughts every year. To prevent these losses, Sukhram Chaurasia (35) turned out to be a way that he was earning millions of rupees himself and also a role model for his area and farmers.

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Politics5 days ago

30 साल के हुए तेज प्रताप यादव, बधाई देनेवालों का लगा तांता

Politics5 days ago

राजीव प्रताप रूडी ने किया सारण से नॉमिनेशन, हलफनामे में दिया अपनी संपत्ति का ब्यौरा

Politics5 days ago

लोकसभा चुनाव : छठे चरण के लिए आज से शुरू होगा नामांकन, दूसरा चरण का आज थम जायेगा प्रचार का शोर

Politics5 days ago

राहुल गांधी के खिलाफ मानहानि का केस करेंगे सुशील मोदी

Politics5 days ago

लालू को मिला प्रशांत किशोर के मिलने वाले मामले में नाराज साले साधु यादव कसा साथ

Sports5 days ago

MISSION WORLD CUP 2019 : टीम इंडिया की घोषणा, पंत की अनदेखी

Politics5 days ago

देश को बचाने के लिए कांग्रेस के हाथ को मजबूत करें : शत्रुघ्न

Politics5 days ago

लोकसभा चुनाव: कांग्रेस में बागी हुए शकील अहमद, मधुबनी से कल निर्दलीय करेंगे नामांकन

Politics5 days ago

योगी-मायावती के बाद मेनका और आजम पर चला EC का चाबुक, चुनाव प्रचार पर लगी रोग

Politics5 days ago

नोटबंदी और GST के नाम पर BJP वोट मांगकर दिखाएं: आलोक मेहता

Politics5 days ago

LOKSHABHA ELECTION का दूसरा चरण: बिहार की 5 सीटों पर 69 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर

Politics6 days ago

BJP में शामिल हुए महाचंद्र सिंह का बड़ा आरोप, कहा- महागठबंधन में जात-पात का शिकार हुआ

Politics6 days ago

लालू परिवार को लगा एक ओर झटका, TEJPRATAP को मायावती ने दिया झटका, जानिए पूरी खबर

Politics6 days ago

अश्वनी चौबे पर TEJASHWI ने साधी चुप्पी, CM और KC त्यागी पर भड़के

Politics6 days ago

बोले सुशील मोदी, व्यापारियों-किसानों को पेंशन देगी MODI सरकार

Politics2 weeks ago

अनंत सिंह की चुनौतियों को नामांकन से पहले ललन सिंह कुछ इस तरह देने जा रहे जवाब

Videos2 weeks ago

VIDEO: बाहुबली विधायक अनंत सिंह के प्रतिद्वंद्वी को मुंगेर की जनता से ज्यादा उम्मीद

Politics2 weeks ago

बाहुबली विधायक के नीतीश पर लगाए आरोपों को लेकर तेजस्वी ने बड़ी साजिश की जताई आशंका

Politics2 weeks ago

नाराज ANANT SINGH ने प्रेस कांफ्रेंस कर LALAN SINGH और CM NITISH के खोले गंभीर राज

BIHARI Charcha2 weeks ago

समाज के संवेदनशील मुद्दों पर लोगों की जागरूकता में लोक कलाकारों की महत्वपूर्ण भूमिका: भरत सिंह भारती

Videos3 weeks ago

तेजप्रताप यादव से मिलने पहुंची अर्शी खान, कहा – “MY BEST FREIND”

Videos4 weeks ago

VIDEO: जानें, पप्पू यादव को तेजस्वी ने क्या दे डाली राजनीति को लेकर नसीहत

Bhojpuri4 weeks ago

VIDEO: भोजपुरी फिल्म ‘रब तुझमें दिखता है’ का भव्‍य मुहूर्त पटना में संपन्न

Sports2 months ago

VIDEO-INDvsAUS : विदर्भ में ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ भारत ने लगाया जीत का चौका

Politics2 months ago

VIDEO: अपने ही कार्यक्रम में नहीं दिखे तेजस्वी यादव , वजह बनी तबियत खराब

Videos2 months ago

नीतीश कुमार के जनहित कार्यों में सिपाही की तरह करूंगा काम: नरेंद्र सिंह

Politics2 months ago

VIDEO-लोकसभा चुनाव: तेजस्वी महागठबंधन के घटक दलों को साथ लेकर चलने में असमर्थ

Politics2 months ago

VIDEO: जात-पात नहीं विकास की बात पर राजनीति होनी चाहिए: गजपा

Videos2 months ago

अब जल्द ही बदल जाएगा लालू परिवार का एड्रेस

Videos2 months ago

राजभवन घेराव करने जा रहे किसानों का डाक बंगला चौराहे पर पुलिस कर्मियों से झड़प

Advertisement

Trending

Copyright © 2018 Biharimati Powered by Leadpanther.