भारत बंद का बिहार में रहा असर, आरा में धारा 144 लागू, हाजीपुर में केंद्रीय मंत्री से हाथापाई की कोशिश

0
155

भारत बंद का बिहार असर बिहार के विभिन्न इलाकों में काफी देखने को मिल रही है. बिहार के तकरीबन हर जिले में बवाल हो रहा है. एक ओर जहां बंद के दौरान हुए हंगामे में आरा में 6-7 पुलिसवाले घायल होने के कारण धारा 144 लागू कर दी गई हैं. वहीं दूसरी और वैशाली जिले के हाजीपुर में केंद्रीय मंत्री और रालोसपा के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के साथ बदसलूकी हुई है. हाजीपुर में भारत बंद समर्थकों ने उपेंद्र कुशवाहा के काफिले को घेर कर उनके साथ बदसलूकी की. जातिवादी कमेंट किए गए. इतना ही नहीं काफी देर तक उनकी गाड़ी को घेर कर बवाल चलता रहा.

सूत्रों के मुताबिक घटना हाजीपुर के सुभई के पास लोमा गांव में हुई है. उपेंद्र कुशवाहा का काफिला पहुंचते ही उन पर बंद समर्थक टूट पड़ें. आरक्षण विरोधी मोर्चा के लोगों ने उनसे हाथापाई की कोशिश की. इस दौरान उपेंद्र कुशवाहा को जातिवादी बताया गया. बता दें कि उपेंद्र कुशवाहा पीएम नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम में हिस्सा लेने मोतिहारी जा रहे थे. इसी दौरान उनके साथ यह घटना हो गई. उधर इस घटना की निंदा करते हुए रालोसपा के नेता राजेश यादव ने कहा कि यह अपमामित करने वाले लोग सामंती जातिवादी मानसिकता के शिकार हैं. उन्होंने कहा कि रालोसपा आरक्षण की लड़ाई लड़ते रहेगी.

आरा में प्रदर्शन, पत्थरबाजी, SDO समेत 7 घायल
इधर, आरा नगर थाने में आनंदनगर इलाके में बंद समर्थकों और विरोधियों के बीच हिंसक झड़प होने के साथ ही दोनों तरफ से फायरिंग किए जाने की सूचना मिल रही है. प्रदर्शनकारियों के हमले में एसडीओ समेत 7 पुलिसकर्मी घायल हो गए. बढ़ते आक्रोश को लेकर आरा में धारा-144 लागू करते हुए एक साथ पांच लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी लगा दी गई है. वहीं आरा में ही सैकड़ों युवाओं ने पटना पैसेंजर ट्रेन को रोक दिया. आक्रोशित युवाओं ने रेल पटरी पर उतरकर आरक्षण के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.


पटना में सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारी
भारत बंद को लेकर राजधानी पटना के डाकबंगला चौराहा पर रैपिड एक्शन फोर्स की तैनाती की गई है. वहीं बंद के समर्थन में लोगों ने राजधानी के बाजार समिति में रोड जाम कर दिया है. इधर भारतबंद के दौरान प्रदर्शनकारियों ने बिहार शरीफ पटना मुख्य सड़क मार्ग जाम कर दिया. साथ ही आगजनी और नारेबाजी भी की. इस कारण एनएच 31 पर गाड़ियों का परिचालन ठप हो गया है. इस क्रम में पुलिस ने हजारों बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया है.
शेखपुरा में रेल पटरी पर बैठे बंद समर्थक
एक तरफ शेखपुरा में जहां लोगों ने रेल पटरी पर बैठकर विरोध जताया. इस दौरान जिले के सिरारी हॉल्ट के पास लोगों ने पटरी जाम कर मालगाड़ी को भी रोका दिया. वहीं मोकामा में भी प्रदर्शनकारियों के विरोध प्रदर्शन के कारण ट्रेनों का परिचालन ठप पर गया है.

गया में लाठीचार्ज
बंद समर्थकों ने गया-बोधगया सड़क मार्ग के केंदुई गांव के पास सड़क जाम कर आगजनी के साथ विरोध जताया, जिस कारण यातायात व्यवस्था बाधित हो गई है. भारत बंद के दौरान उपद्रवियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया है. कई उपद्रवियों को गिरफ्तार भी किया गया है.
वैशाली में टायर जलाकर प्रदर्शन
वैशाली जिले में भी आरक्षण खत्म के समर्थन में तथा उच्चतम न्यायालय के द्वारा दिए गए SC/ST एक्ट के फैसले के पक्ष में लोगों ने एनएच 77 हाजीपुर-मुजफ्फरपुर मुख्य मार्ग और महुआ-हाजीपुर मार्ग को जगह-जगह जाम कर दिया है. प्रदर्शनकारी टायर जलाकर सुप्रीम कोर्ट के समर्थन में नारेबाजी कर रहे हैं.
मुजफ्फरपुर : भगवानपुर में मुख्य सड़क पर जाम
मुजफ्फरपुर में सुबह से ही पटना रोड के पास टायर जलाकर प्रदर्शन किया गया. इसके अलावा भगवानपुर में मुख्य सड़क पर जाम लगा दिया गया है.

बेगूसराय में मारपीट, मीडियाकर्मियों को भी पीटा
बेगूसराय में बंद समर्थकों और विरोधियों में मारपीट हुई। मौके पर कवरेज कर रहे मीडियाकर्मियों को भी पीटा गया. नगर थाना क्षेत्र के अंबेडकर चौक पर तनाव तब भड़का, जब एक पक्ष ने दूसरे पर बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा तोड़ने की कोशिश का आरोप लगाया.
गृह मंत्रालय ने अलर्ट का जारी किया था निर्देश
गौरतलब है कि किसी बड़े संगठन या दल ने भारत बंद की घोषणा नहीं की है, ऐसे में सोशल मीडिया के जरिये छोटे-छोटे संगठनों द्वारा शरारत किए जाने की भी संभावना व्यक्त की जा रही है. अब आरक्षण के विरोध में कई अचर्चित संगठनों ने भी भारत बंद का आह्वान किया है. इसके लिए भी सोशल मीडिया की मदद ली जा रही है. गृह मंत्रालय ने राज्यों को सोशल मीडिया और कानून व्यवस्था पर खास निगाह रखने की सलाह दी है.

राज्यों को सोशल मीडिया के जरिए बीते दो अप्रैल के भारत बंद की तरह ही इस बार भी हिंसा की साजिश रचने के प्रति आगाह भी किया है. बीते 2 अप्रैल को एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ भारत बंद के दौरान देशभर में हिंसा हुई थी करीब 12 लोगों को जान तक गंवानी पड़ी थी. 10 अप्रैल को आयोजित बंद में फिर से हिंसा न फैले इसलिए गृहमंत्रालय दिशा निर्देश जारी किए हैं.

 

 

 

The Bihar effect of India Bandh is very much seen in different areas of Bihar. Almost all the districts of Bihar are getting bigger. On the one hand, Section 144 has been imposed for causing 6-7 policemen injured in Aara during the clashes. At the same time, the second and the Union Minister of Hajipur in Vaishali district and Rolospa’s president Upendra Kushwaha has been involved in a furore.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here