बिहार कोकिला शारदा सिन्हा पद्म भूषण से हुईं सम्मानित

0
48

राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में बिहार की लोकप्रिय गायिका शारदा सिन्हा को पद्म भूषण सम्मान से नवाजा गया. भारत का तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान सोमवार की शाम राष्ट्रपति भवन में चल रहे कार्यक्रम में बिहार की लोकप्रिय गायिका को राष्ट्रपति ने देकर सम्मानित किया. बता दें कि शारदा सिन्हा बिहार की एक लोकप्रिय गायिका हैं. इनका जन्म 1 अक्टूबर 1952 को हुआ. इन्होंने मैथिली, बज्जिका, भोजपुरी के अलावे हिन्दी गीत गाये हैं. मैंने प्यार किया और हम आपके हैं कौन जैसी फिल्मों में इनके द्वारा गाये गीत काफी प्रचलित हुए हैं. बिहार एवं यहां से बाहर दुर्गा-पूजा, विवाह-समारोह या अन्य संगीत समारोहों में शारदा सिन्हा द्वारा गाये गीत अक्सर सुनाई देते हैं. पहले भी इन्हें लोकगीतों के लिए ‘बिहार-कोकिला’, ‘पद्म श्री जैसे कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है.

बिहार कोकिला, पद्मश्री और अब पद्मभूषण से सम्मानित शारदा सिन्हा किसी पहचान की मोहताज नहीं. ‘पनिया के जहाज से पलटनिया बनी अईह पिया..’ ‘कांचे ही बांस के बहंगियां..’ या ‘कहे तोसे सजना तोहरी सजनिया..’ जैसे गीतों के आज भी कद्रदान हैं. उनकी खनकदार आवाज एक जादू सा बना देती है. शारदाजी कहती हैं कि मुझे अपनी क्षेत्रीय भाषाओं पर नाज है. सबसे बड़ी बात कि मैं बिहार की बेटी हूं, बहू हूं, बिहारन हूं. मुझे मेरी माटी पसंद है. लोकगीतो ने मुझे पहचान दिलायी. विदेशों में भी हमारे देश की भाषा, हमारे लोकगीत पसंद किए जाते हैं, ये मेरे लिए बड़ी बात थी. आपको शायद मालूम ना हो, छठ के गीत और छठ की पूजा अब विदेशों तक पहुंच चुकी है. लोग वहां छठ के गीत की वजह से मुझे जानते हैं, मुझे पहचानते हैं. बहुत अच्छा लगता है कि दूर देश में भी मेरी माटी की महक मौजूद है.

वहीं एक दिन पूर्व ही लोक गायिक शारदा सिन्हा को D.Lit की उपाधि से सम्मानित किया गया. दरभंगा में आयोजित ललित नारायण मिथिला विवि के आठवीं दीक्षांत समारोह में उन्हें यह सम्मान दिया गया. इस बारे में उन्होंने बताया कि ललित नारायण मिथिला विश्व विद्यालय में दीक्षांत समरोह में मुझे डॉक्टर ऑफ लिटरेचर (D. Lit.) की उपाधि से सम्मानित किया गया. अपनी कार्यस्थली में सम्मानित होना एक अलग और विलक्षण अनुभूति है. हालांकि डॉ. सिन्हा इस सम्मान को प्राप्त करने के लिए सदेह उपस्थित नही हो सकी. वह दिल्ली में पद्म भूषण सम्मान समारोह के पूर्वाभ्यास के लिए राष्ट्रपति भवन में थी.

 

 

Sharda Sinha, popular singer of Bihar, was honored with Padma Bhushan in the program organized at Rashtrapati Bhavan. Describe that Padma Bhushan is the third highest civilian honor of India. Sharda Sinha, the popular singer of Bihar, was honored with the Padma Bhushan, India’s third highest civilian honor, on Monday evening at the Rashtrapati Bhavan.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here