अर्जित ने किया सरेंडर, कहा- जय श्रीराम-भारत माता की जय कहना अपराध है, तो मैंने किया है

0
89

बिहार में पिछले कुछ दिनों से सियासत के केंद्र में रहे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे ने पटना के महावीर मंदिर में पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. सरेंडर करने के बाद अर्जित ने भागलपुर पुलिस और आरजेडी-कांग्रेस पर कई आरोप लगाए.

महावीर मंदिर के मेन गेट पर देर रात अर्जित शाश्वत चौबे अपने दर्जनों समर्थकों के साथ जय श्रीराम का नारे लगाते पहुंचे. वहां पहले ही मौके पर मौजूद पटना पुलिस की टीम ने अर्जित शाश्वत को धर दबोचा. जिसके बाद अर्जित शाश्वत ने मीडिया को बताया कि उन्होंने पुलिस के सामने सरेंडर किया.
हालांकि पटना पुलिस का साफ तौर पर कहना है कि अर्जित शाश्वत को गिरफ्तार किया. पुलिस शाम से ही अर्जित के मोबाइल फोन को ट्रैक कर रही थी. बाद में पटना पुलिस अर्जित शाश्वत को लेकर गांधी मैदान थाना पहुंची.

जहां करीब डेढ़ घंटे तक अर्जित शाश्वत को रखा गया, फिर अर्जित शाश्वत को भारी सुरक्षा के साथ भागलपुर के लिए रवाना किया गया. अर्जित शाश्वत की अग्रिम जमानत भागलपुर कोर्ट ने कल ही खारिज कर दी थी. इस दौरान महावीर मंदिर के बाहर अर्जित शाश्वत के समर्थक जय श्रीराम के नारे लगाते रहे. उन्होंने कहा कि भागलपुर के नाथनगर में शोभायात्रा निकाई गई थी. शोभा यात्रा के डेढ़ घंटे बाद हमें सूचना मिलती है कि वहां घटना घटी है. फिर दो दिन बाद एफआईआर दर्ज की जाती है.

प्रशासन ने अपनी विफलता का ठिकरा मेरे सिर पर फोड़ने का काम किया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी दोनों समुदाय के लोगों को साथ लेकर चलती है. भागलपुर की घटना के बाद बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने दोनों समुदाय के लोगों को मिलाने का काम  किया. इस अशांति के पीछे आरजेडी-कांग्रेस का हाथ है.
गौरतलब हो कि अर्जित शाश्वत चौबे भागलपुर के नाथनगर उपद्रव मामले में नामजद आरोपी हैं. बचाव और सरकार की ओर से करीब घंटे भर तक जमानत की बिंदु पर बहस हुई जिसके बाद कोर्ट ने अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी है. केंद्रीय मंत्री के पुत्र अर्जित पर 17 मार्च को बिना अनुमति भारतीय नववर्ष का जुलूस निकालने समेत अन्य आरोप लगाए गए हैं. इस मामले में कोर्ट ने अर्जित शाश्वत चौबे समेत कई के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट निर्गत किया था.

अर्जित चौबे की गिरफ्तारी को लेकर बिहार में सियासत काफी गर्म है और सीएम नीतीश कुमार, उनके सुशासन समेत धर्म निरपेक्षता पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं. जदयू के कई नेताओं ने अर्जित को अपराधी तक बता डाला है. दूसरी तरफ अर्जित के पिता अश्विनी चौबे, बीजेपी के सीनियर नेता गिरिराज सिंह समेत कई नेता अर्जित को निर्दोष बता रहे हैं.अर्जित की गिरफ्तारी को लेकर बिहार पुलिस की एसआईटी भी लगातार छापेमारी कर रही थी.

 

 

In the last few days, Bihar’s Union Minister Ashwani Choubey’s son, who has been in the center of the state, has been given surrender before the police in the Mahavir temple in Patna. After surrender, Arjit made several allegations against Bhagalpur Police and RJD-Congress.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here