आरा के वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के इस मामले पर कोर्ट से FIR का आदेश

0
45

आरा स्थित वीर कुंवर सिंह यूनिवर्सिटी में एक नया विवादित मामला प्रकाश में आया है. इसे लेकर कर्मचारियों में रोष व्याप्त है. उन्होंने एफआईआर कराकर जांच की मांग उठाई है. दरअसल, वीर कुंवर सिंह यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर प्रमोशन में घोटाला और वित्तीय अनियमितता करने मामला सामने आया है. पटना स्थित निगरानी कोर्ट के विशेष न्यायधीश मधुकर कुमार ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर जांच करने का निर्देश निगरानी की टीम को दिया है.
यूनिवर्सिटी के पूर्व परीक्षा नियंत्रक डॉ रामजन्म शर्मा ने निगरानी कोर्ट में भ्रष्टाचार का मुकदमा दाखिल किया था. इस केस में वीर कुंवर सिंह यूनिवर्सिटी के तत्कालीन कार्यवाहक कुलपति डॉ लीला चंद साहा, महाराजा कॉलेज के पूर्व प्राचार्य राजेन्द्र प्रसाद सिंह, तत्कालीन परीक्षा नियंत्रक डॉ प्रसूजंय कुमार को नामजद अभियक्त बनाया गया है.
कोर्ट में दाखिल मुकदमे के मुताबिक तीनों अभियुक्तों नेे आपराधिक षड्यंत्र कर सरकारी राशि से 5 करोड़ 60 लाख रुपये की हेराफेरी की. साथ ही 200 शिक्षकों को एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर प्रमोट कर निजी लाभ कमाया.
याचिकाकर्ता रामजन्म शर्मा ने बताया कि उनको इस केस में न्याय मिलने की उम्मीद थी जो कि मिला है.इससे पहले भी विश्वविद्यालय के पूर्व परीक्षा नियंत्रक प्रसूंजय सिन्हा पर संगीन आरोप लग चुके हैं.

 

 

 

 

A new disputed case has come to light in Veer Kunwar Singh University, Ara. Embarrassment is rife among employees. They have demanded an inquiry by filing an FIR. Actually, Professor Promotion scam in Veer Kunwar Singh University has come up with financial irregularity.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here