उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ संपन्न हुआ चैती छठ, गंगा घाटों पर और पार्कों में उमड़ा जनसैलाब

0
39

शनिवार को उदीयमान भगवान भास्कर को अर्घ्य देने के साथ ही बिहार समेत पूरे देश भर में आज चैती छठ संपन्न हो गया. राजधानी पटना के गंगा घाटों पर भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच छठ व्रतियों ने अर्घ्य दिया. इस दौरान घाटों पर खूब भीड़ देखने को मिली. इससे पहले शुक्रवार को पटना के विभिन्न घाटों पर व्रतियों ने अस्ताचलगामी सूर्य देव को अ‌र्घ्य दिया गया. सुबह से ही व्रतियों ने पानी में खड़ा होकर सूर्य के उदय होने का इंतजार करते हुए भगवान भास्कर की आराधना की. जैसी ही सूर्य की लालिमा निकली व्रतियों ने उगते सूर्य को अ‌र्घ्य देकर अपने व्रत को पूरा किया. छठ के इस पर्व के अवसर पर शहर के कई पार्कों में भी जलकुंड का निर्माण कराया गया था. जहां बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया.


शनिवार को सप्तमी तिथि के साथ ही व्रती अहले सुबह घाटों पर पहुंच कर उदीयमान सूर्य को अर्घ्य दिया. इसके साथ ही चार दिवसीय छठ व्रत की समाप्ति हो गयी. व्रतियों ने गंगा घाटों पर कोसी की पूजा की. मान्यता है कि विशेष मन्नत पूरा होने पर व्रती कोसी भर सूर्य की पूजा करते हैं.

पल-पल सुरक्षा का जायजा लेते रहे अधिकारी : छठ पर्व की संध्या पर सुरक्षा और विधि व्यवस्था को लेकर जिलाधिकारी कुमार रवि व वरीय पुलिस अधीक्षक मनु महाराज ने विभिन्न गंगा घाटों का जायजा लिया. निरीक्षण के क्रम में अधिकारी पल पल की जानकारी लेते रहे.

निरीक्षण नासरी गंज घाट से गायघाट तक 12 सीटेड बोट से सभी छठ घाटों तक किया जाता रहा. डीएम तथा वरीय पुलिस अधीक्षक ने भी गांधी घाट पर भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया. जिलाधिकारी ने सभी छठ व्रतियों को शुुभकामना देते हुए पटना जिले ले प्रगति और उन्नति की कामना की. जिलाधिकारी ने कहा कि सभी सुरक्षित घाटों पर 35 बोट में एनडीआरएफ तथा एसडीआरएफ की व्यवस्था की गयी है. गंगा नदी में बोट से लगातार पेट्रोलिंग कर रहे हैं.

घाटों पर जुटे लोग : फुलवारीशरीफ. फुलवारीशरीफ के शिव मंदिर घाट, करोड़ीचक, बहादुरपुर, गोनपुरा सूर्य मंदिर घाट, अनिसाबाद मानिक चंद तालाब, जानीपुर, भुसौला दानापुर ,जगदेव पथ स्थित बीएमपी तालाब ,संपतचक ,गौरीचक ,बैरिया, गोपालपुर, परसा ,बेऊर ,सिपारा रामकृष्ण नगर ,खेमनीचक ,जगनपुरा में चैती छठ पर सूर्य को अर्घ्य देने के लिए लोग जुटे थे.
पंडारक:  पंडारक के विभिन्न गंगा घाटों पर छठ व्रतियों ने डूबते सूर्य को अर्घ दिया. पुण्यार्क सूर्य मंदिर में भगवान भास्कर के दर्शन के लिये श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी. मंदिर परिसर में भजन कीर्तन चला. इधर मोकामा प्रखंड के विभिन्न गंगा घाटों पर भी अर्घ दिया गया.

पटना सिटी: शुक्रवार को अर्घ्य अर्पित करने के लिए अनुमंडल के 55 गंगा घाटों पर व्रतियों की भीड़ जुटी. सबसे अधिक भीड़ गायघाट, खाजेकलां घाट, भद्र घाट, महावीर घाट, गुरु गोविंद सिंह घाट, किला रोड़ घाट, कंगन घाट, पत्थर घाट के साथ अन्य गंगा घाटों पर थी.

मसौढ़ी: आस्था का महापर्व छठ पूजा मसौढ़ी व धनरूआ एवं पुनपुन में व्रतियों ने श्रद्धापूर्वक भगवान भास्कर को दिया. मणिचक श्री विष्णु सूर्य मंदिर तालाब घाट पर व्रतियों ने अर्घ्य दिया.

दुल्हिनबाजार: शुक्रवार की शाम प्रखंड क्षेत्र के उलार गांव स्थित प्रसिद्ध ओलार्क सूर्य मंदिर परिसर में स्थित तालाब में स्नान कर छठ व्रतियों ने डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया.

बिक्रम: असपुरा सूर्य मंदिर पर व्रतियों ने सोन नहर में स्नान कर भगवान भास्कर को पहला अर्घ्य दिया. वहीं असपुरा सूर्य मंदिर हनुमान बाग के सदस्यों ने दूर दराज से आये हुए व्रतियों के लिए ठहरने की व्यवस्था भी की थी.
फतुहा/खुसरुपुर: फतुहा के सबलपुर,कच्ची दरगाह, जेठुली, मौजीपुर, समसपुर सीढ़ी घाट,मौनिया घाट, त्रिवेणी संगम, मस्ताना घाट, कटैहिया घाट, दरियापुर,रायपुुरा, मकसूदपुर, केवला घाट,खिरोधरपुर, कुर्था, हरदासबीघा, बैकटपुर, मौसीमपुर आदि गंगा घाटों पर सूर्य को अर्घ्य दिया गया.

दानापुर/खगौल: दानापुर के विभिन्न तालाबों में छठ व्रती महिलाएं ने अ‌ दिया. श्रद्धालु गाजे-बाजे के साथ घाट पर दोपहर बाद से ही पहुंचने लगे.

 

 

 

Chaiti Chatha is complete today across the country including Bihar, with the arrival of Udhman Lord Bhaskar on Saturday. Between the heavy security arrangements on the Ganga Ghatas of Patna, the Chhath Vritsa made a request. During this time there were lots of crowds on the ghats.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here