CBSE की 10वीं और 12वीं की परीक्षा कल से, विकलांग परीक्षार्थी लैपटॉप लेकर बैठ सकेंगे

0
32

CBSE की 10वीं और 12वीं की परीक्षा कल से शुरू होने जा रही है. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) के एक अधिकारी ने बताया कि 10वीं और 12वीं कक्षाओं की परीक्षाओं में 28 लाख से ज्यादा छात्र शामिल होंगे. बताया कि 10वीं कक्षा की परीक्षा के लिए कुल 16,38,428 जबकि 12वीं कक्षा की परीक्षा के लिए 11,86,306 छात्रों ने पंजीकरण कराया है. मालूम हो कि सरकार ने इससे पहले अपनायी गयी व्यापक एवं सतत मूल्यांकन (सीसीई) को हटाने का फैसला किया जिसके बाद सरकार ने इस साल से 10वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा दोबारा से शुरू की. 10वीं परीक्षा भारत में 4,453 और देश से बाहर 78 केंद्रों पर परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी. इसी तरह 12वीं की परीक्षा भारत में 4,138 और विदेशों में 71 केंद्रों पर आयोजित की जाएगी. CBSE अधिकारी ने कहा कि बोर्ड ने देश भर में कठिनाइयों से मुक्त परीक्षा सुनिश्चित करने के लिए राज्य प्राधिकरणों एवं स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर पर्याप्त व्यवस्थाएं की है.
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने 10वीं और 12वीं के शारीरिक रूप से अक्षम छात्रों को परीक्षा में बड़ी राहत दी है. ऐसे छात्र इस बार बोर्ड परीक्षा में कंप्यूटर या लैपटॉप का इस्तेमाल कर सकेंगे. विकलांग छात्रों को इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए मनोवैज्ञानिक परामर्शदाता की ओर से प्रमाणपत्र पेश करना होगा. इसमें प्रमुख कारण बताते हुए कंप्यूटर की सुविधा की सिफारिश की गई हो, तभी अनुमति मिलेगी. सीबीएसई की परीक्षा समिति ने अपनी हालिया बैठक में इस साल से विशेष जरूरत वाले छात्र-छात्राओं को रियायत देने संबंधी मुद्दे का समाधान कर दिया है.
इसके बाद जारी आदेश में कहा गया है कि कंप्यूटर का इस्तेमाल उत्तर टाइप करने, बड़े आकार के शब्दों में प्रश्नों को देखने और प्रश्न सुनने में किया जा सकता है. ऐसे छात्र जो इस सुविधा का लाभ लेना चाहेंगे, उन्हें अपने साथ फॉर्मेट किया हुआ लैपटॉप या कंप्यूटर लाना होगा. इसका उद्देश्य यह है कि कंप्यूटर या लैपटॉप में कोई ऐसा शैक्षणिक डाटा न हो, जिसका इस्तेमाल छात्र प्रश्नपत्र हल करने में कर सकें.
केंद्र व्यवस्थापक अपने स्तर पर जांच कर इसकी पुष्टि कर लेने के बाद ही इस्तेमाल की अनुमति देंगे. इसमें इंटरनेट का कनेक्शन भी नहीं होना चाहिए. छात्र-छात्राओं द्वारा दिए गए उत्तर के प्रिंट आउट पर कक्ष निरीक्षक इसकी पुष्टि करेगा. इसके अलावा बोर्ड ने रीडर प्रावधान को भी मंजूरी दी है. रीडर ऐसे मामलों में उपलब्ध कराए जाएंगे, जहां विशिष्ट छात्रों को कंप्यूटर या लैपटॉप की जगह प्रश्न पत्र पढ़ने की किसी व्यक्ति की आवश्यकता होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here