महागठबंधन में शामिल होंगे जीतनराम मांझी, NDA से बना ली दूरी

0
106

बिहार की राजनीति में अचानक से एक बार फिर बुधवार को बड़ा उलटफेर हुआ. राजग से नाराज चल रहे हिन्‍दुस्‍तानी आवाम मोर्चा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जीतनराम मांझी से राजद अध्‍यक्ष लालू प्रसाद यादव के पुत्र व नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव एवं तेजप्रताप यादव ने मुलाकात की. इसके बाद मांझी ने महागठबंधन में शामिल होने का एलान कर दिया. मांझी ने बताया कि इसकी औपचारिक घोषणा रात आठ बजे की जायेगी. हालांकि, कई भाजपा नेताओं ने कहा कि मांझी को मना लिया जाएगा.
बुधवार की सुबह तेजस्‍वी यादव और तेजप्रताप यादव राजद नेता भोला यादव के साथ जीतनराम मांझी से मिलने उनके आवास पर पहुंचे. वहां करीब एक घंटे की बैठक के बाद जीतनराम मांझी ने यह घोषणा कर दी कि वे राजग से अलग हो रहे हैं. वहीं, इस मुलाकात के बाद तेजस्‍वी यादव ने कहा कि जीतनराम मांझी बिहार के बड़े नेता हैं. वे दलितों-पिछड़ों के नेता हैं. मांझी लगातार दलितों और पिछड़ों की अावाज उठाते रहे हैं. तेजस्‍वी ने कहा कि मांझी उनके लिए पिता तुल्‍य व अभिभावक हैं. अब वे साथ आ गए हैं. महागठबंधन में उन्‍हें सम्‍मान मिलेगा. एनडीए में सहयोगी दलों का सम्‍मान नहीं किया जाता है.
कांग्रेस ने भी मांझी का किया स्‍वागत
बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्‍यक्ष कौकब कादरी के महागठबंधन में शामिल होने के फैसले का स्‍वागत किया है. कहा कि मांझी जी ने देर से लेकिन दुरूस्त फैसला लिया है. वे महागठबंधन विचारधारा के हैं. एनडीए गठबंधन ने सिर्फ मांझी का दोहन किया है. आने वाले समय में रालोसपा भी महागठबंधन में शामिल होगा.
दो विधान परिषद की सीटों पर बनी बात
सूत्रों के अनुसार, मांझी और तेजस्‍वी के बीच बंद कमरे में हुई बैठक के दौरान हम पार्टी को विधान परिषद चुनाव में दो सीटें देने की बात कही गई है. मांझी ने एक सीट प्रदेश अध्‍यक्ष वृषिण पटेल तथा दूसरा सीट अपने बेटे संतोष मांझी के लिए मांगी है.
डैमेज कंट्रोल में जुटी भाजपा
जीतनराम मांझी के महागठबंधन में जाने की घोषणा के बावजूद इसके औपचारिक एलान में अभी देर है. सूबे के पथनिर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने कहा कि मांझी को मना लिया जाएगा. कुद अन्‍य भाजपा नेताओं ने कहा कि वे मांझी के संपर्क में हैं.
राजग में नाराज चल रहे थे मांझी
इसके पहले मांझी ने कहा था कि जो पार्टी उनके नेता का राज्यसभा में समर्थन करेगी, उसके साथ आगे की राजनीति का विकल्प खुला हुआ है. उन्‍होंने कहा था कि राजग में किसी मुद्दे पर उनकी राय नहीं ली जाती है. राजग के कार्यक्रमों में निमंत्रण नहीं दिया जाता है.
जदयू के सरफराज भी हो चुके राजद में शामिल
मांझी के पहले जदयू के निलंबित विधायक एवं पूर्व मंत्री सरफराज आलम का भी साथ राजद को मिल चुका है. सरफराज कुछ दिनों पहले राजद में शामिल हुए हैं. सरफराज के पार्टी में आने पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी ट्वीट करके दावा किया था कि जदयू में अभी और टूट होगी. सरफराज ने राजद की सदस्यता ग्रहण करने को घर वापसी बताया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here